Digital clock

Sunday, December 4, 2011

abhi na jao ....

















Devanand ......

1 comment:

  1. हार्दिक श्रद्धांजलि

    देवानंद हीरो थे जगत के
    हरदम सदाबहार
    बच्चे , बूढ़े और जवां ने
    दिया था उनको प्यार

    फ़िल्में उनको रखेंगी जिंदा
    बनी है बेशुमार
    छोड़ देह को चले गये वे
    लेंगे नव अवतार..

    दीनदयाल शर्मा
    बाल साहित्यकार

    ReplyDelete